Japanese Encephalitis in hindi ~ जापानिज एनसेफेलाटिस हिन्दी मे

हो जाइए साबधान मारणरोग जापानी एनसेफेलिटिस से। नेही तो आपको झेलना पड़ सकता हे बड़े नुक़सान।

Japanese Encephalitis in hindi ~ जापानिज एनसेफेलाटिस हिन्दी मे

जापानिज एनसेफेलिटिस एक वायरस घटित बीमारी हे। ये रोग किउलेक्स मच्छर के काटने से होता हे। जापानिज एनसेफेलिटिस रोग ज़्यादातर गाव मे दिखाइ देता हे। इस बिमारी का सबसे बड़ा कारण किउलेक्स मच्छर धान के खेत, छोटे तालाब, गंदी नालि मे आपना बंश बिस्तार करते हे।

बीमारी के लक्षण

जापानिज एनसेफेलिटिस बीमारी के कुछ लक्षण हे शरीर का तापमान वाड़ जाना यानी बुखार आना, उल्टी आना, शरीर का किसी हित्सा paralysed हौ जाना, सीर मे दर्द होना इत्यादि।

इस रोग का इलाज क्या हे?

आगर इये रोग किसी ब्याक्ति का हो जाति हे तो उस ब्याक्ति ने सिर्फ रोग के लक्षणो का ही इलाज कर सकता हे। क्यूँ की इस रोग का कोई इलाज अभी तक नेही आया हे।

जापानी एनसेफेलिटिस बीमारियो से कैसे बचे?

  1. ये बिमारी 2 साल से 15 साल तक उम्र बाले बच्चे को ज्यादा दिखाइ देता हे। इसलिए हमेसा छोटे बच्चा का ध्यान रखिए।
  2. पूरे शरीर ढाका हुया कपड़े पेहनिए।
  3. घर के चारपास और नली को साफ़ राखे।
  4. श्याम मे मच्छर भागाने बाला तेल, आगरबात्ती का इस्तेमाल कीजिए।
  5. आगर आप ये बिमारी होने बाला इलाके मे रहते हौ या फिर बहा जाने को सोच रहे हौ तो आप J.E भ्याकसिन ले लीजिए।
  6. घर के आसपास pig यानी शुउर को रेहने मत दीजिए। और आपने आपको पशुशाला से दूर रखिए।
  7. जापानी एनसेफेलेटिस से बचने के लिए पानी मे रेहने बाले पंछियों से भी दूर रहिए।
Also Read - Dengue bukhar se kaise bache ~ डेंगू बुखार से कैसे बचे।

याद रखिए

ये बीमारी कोई संक्रमक बीमारी नेही हे। ये बिमारी ज़्यादातर 15 साल से कम उम्र बाले बच्चे को होता हे। आगर ये बिमारी किसी को होता हे तो उसे जल्द ही किसी डॉक्टर के पास ले जाइए। काभिभी किसिभी हाकिम या झोलाछाप doctor के पास गलती से भी मत ले जाइए। इसके बारे मे आगर आपको ज्यादा जानकारी चाहिए तो आप किसिभी स्थानीय सरकारि Hospital या फिर हेल्थ center मे चले जाइए।

आगर आपको ये पोस्ट आच्छा लगा तो इसे शेयर जरुर कीजिए। और आगर आपको इस पोस्ट के संबन्धित कोई भी साबाल और सुझाब हे तो कमेंट मे जरुर बताइए।

Comments